तेरे लिए

ss1

तेरे लिए

क्या क्या नहीं किया तेरे लिए ,
हर  इलजाम लिया  तेरे  लिए ।

संवारने की कोशिश में उलझे,
उलझते  रहे सब  से तेरे लिए ।

दिलो जान समझ बैठे थे हम,
सब से दुश्मनी  की  तेरे लिए ।

हर बार बदनाम हुए जमाने में,
जब भी अच्छा किया तेरे लिए ।

मौत ने भी मुख  मोड़ा  हमसे,
आँखें खुलीं हैं अभी तेरे लिए  ।

तेरे बिन सब जानते थे कुमार,
वह सजना सँवरना तेरे लिए ।

कुमार अंगराल
युनीक ऐवीन्यु काहनुवान रोड
बटाला   143505

 
print
Share Button
Print Friendly, PDF & Email

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *