उपेंद्र कुशवाहा ने दिए NDA छोड़ने के संकेत, लालू संग मिलकर ‘खीर’ बनाने की योजना

ss1

उपेंद्र कुशवाहा ने दिए NDA छोड़ने के संकेत, लालू संग मिलकर ‘खीर’ बनाने की योजना

लोकसभा चुनाव 2019 के दिन करीब देख सियासत नई दिशा लेती हुई दिख रही है. केंद्र की मोदी सरकार में मंत्री और राष्ट्रीय लोक समता पार्टी के अध्यक्ष उपेंद्र कुशवाहा ने एक बयान देकर नई हलचल पैदा कर दी है. उनके बयान को लेकर सियासी गलियारों में कई तरह की कयासबाजी शुरू हो गई हैं.

शनिवार को राष्ट्रीय लोक समता पार्टी द्वारा पटना में आयोजित बी पी मंडल की जयंती कार्यक्रम को संबोधित करते हुए उपेंद्र कुशवाहा ने इशारों-इशारों में कह दिया कि यदि यादवों का दूध और कुशवाहा का चावल मिल जाए तो एक बढ़िया खीर बन सकती है.

उपेंद्र कुशवाहा ने कहा, ‘यदुवंशी (यादव) का दूध और कुशवंशी (कोइरी समुदाय) का चावल मिल जाए तो खीर बढ़िया होगी, और उस स्वादिष्ट व्यंजन को बनने से कोई रोक नहीं सकता है.’ नरेंद्र मोदी सरकार में मंत्री के इस बयान के कई अर्थ निकाले जा रहे हैं. उनके इस बयान को राजद प्रमुख लालू यादव से जोड़कर देखा जा रहा है.

यहां पर उपेंद्र कुशवाहा का साफ इशारा आरजेडी को लेकर था जिसे मुख्यतः यदुवंशियों की पार्टी के तौर पर देखा जाता है और कुशवाहा  समाज को लेकर था जिसके वह नेता है. यदुवंशी समाज परंपरागत तौर पर गौ पालक होते हैं और कुशवाहा समाज कृषि के क्षेत्र से संबंध रखते हैं.  कुशवाहा ने इशारों में कह दिया कि अगर आरजेडी और राष्ट्रीय लोक समता पार्टी एक हो जाती है तो 2019 के लोकसभा चुनाव में बिहार में वह भाजपा, जदयू और लोजपा गठबंधन को चुनाव में हरा सकते हैं.

Share Button

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *